अगर आपने भारतीय संसद का कोई भी वीडियो या न्यूज चैनल पर दिखाए गए संसद को ध्यान से देखा होगा तो आपने एक बात शायद ही गौर की हो. यहां पर पंखे संसद के छत पर या सीलिंग के तौर पर नहीं बल्कि कुछ खंबे बनाकर उनपर उल्टे लगाए गए हैं, ऐसा करने की क्या वजह रही होगी. अब आप इन बातों पर गौर करेंगे और सोचेंगे कि हां ऐसा देखा तो है लेकिन क्या इसे जानने की कोशिश की है?
अगर नहीं की तो आज हम आपको इससे जुड़ा एक गहरा राज बताएंगे जो बहुत ही ज्यादा दिलचस्प है. भारतीय संसद के सेंट्रल हॉल में जो बड़े-बड़े पंखे उल्टे लगे हैं इसके पीछे की बात ये है कि जब ये संसद बनाई गई तो इसका गुंबद बहुत ही ऊंचा बनाया गया और सेंट्रल हॉल का गुंबग पूरे संसद का मेन प्वाउंट है!
उस समय जब पंखे लगाने की बारी आई तो छत बहुत ही ऊंची होने के कारण सीलिंग फैन लगाना बहुत मुश्किल हो रहा था और फिर लंब डंडे के जरिए पंखे लगाने की बात हुई लेकिन ऐसा हो ना सका. बहुत ज्यादा लंबा डंडा लगाना भी किसी को सही नहीं लग रहा था इसलिए फिर सेंट्रल हॉल की छत की ऊंचाई को ध्यान में रखकर अलग से खंबे लगाए गए और उनपर उल्टे पंखे लगाए गए थे. ऐसा करने से संसद के कोने-कोने में हवा अच्छे से फैल जाती है और वहां बैठे लोगों को राहत मिलती है!

News Source:-NewsTrend

0 comments:

Post a Comment

 
Top